सर पर खुला आकाश पांव ज़मीं पर, ठंडे पवन के मस्त झोंके ,तन पर गिरती टप-टप बारिश की बूँदों ने रोम-रोम को पुलकित किया और प्रेरित किया मनोरम दृश्य के कुछ सुंदर भावों को पन्नों पर अंकित करने का, वही आपके समक्ष लेखनी के माध्यम से अभिव्यक्त कर रही हूँ।Continue Reading

कोरोना वायरस ने हमारी संस्कृति को किया पुनर्जीवित… सदियों से प्राकृतिक आपदा ने अपना तांडव खेल दिखाया है,कभी महामारी से तो कभी सुनामी से,कभी अग्नि ताप से तो कभी भू-स्खलन से, ऐसा क्यों होता है? जब प्रकृति के साथ छेड़-छाड़ करते हैं तो परिणाम अवश्य ही हमें भुगतने पड़ते है।Continue Reading