हर उम्र के दराज़ पर एक नया रूप धरती कभी बेटी कभी बहन बन जीवन में रहती अपने स्नेह प्रेम से घर आँगन को महकाती कभी पत्नी कभी माँ बन रिश्तों को सजाती नारी जीवन संयम धैर्य सहनशीलता से चला अपनों को एक सूत्र में पिरो कर रखती कला अंतर्मनContinue Reading

नारी समाज का आभूषण, नारी देश की शान, घर को देकर बहुमूल्य सेवा, बढ़ाती अपनों का सम्मान। नारी बिना पुरुष अधूरा, पुरुष बिना अधूरी नारी, दोनों सम्पूर्ण एक दूजे संग, हमसफर बन गुजारे जिंदगी सारी। नारी के मातृत्व रूप पर, ईश्वर भी बलिहारी जावे, माँ बनकर जीवन देवे, सृष्टि मेंContinue Reading