बाबा अब मैं बड़ी हो गई हूँ मेरे हाथों को पीले करवा दो जीवन की सबसे बड़ी खुशी एक नई पहचान दिलवा दो। गणपति का शुभ वंदन करके पूजा अर्चना सुमिरन करवा दो बाबा अब मैं बड़ी हो गई हूँ मेरे हाथों को पीला करवा दो। कच्ची हरी हरी पत्तियाँContinue Reading

अजीज़ मित्रों आज आपके लिए मित्रता दिवस पर हृदय के उद्गार…. प्रेम स्नेह से हृदय को तृप्त करते मेरे मित्र। हर सुख दुख में साथ निभाते मेरे मित्र। मन की बगिया को सराबोर करते मेरे मित्र। भ्रमित चित्त भटके को राह दिखाते मेरे मित्र। अश्रु बूँद देख मन को सहलातेContinue Reading