किसने कहा युवाओं में संस्कार नहीं होते शायद हमसे ही कई उपकार नहीं होते कहते हैं युवा पीढ़ी संस्कार खोने लगी है  सच है हमसे परवरिश में भूल होने लगी है। आक्षेप तो हर पीढ़ी ने पीढ़ी को दिया है पर वृक्ष के इस बीज़ को किसने सृजन कियाContinue Reading

तुझे बाहों में भरकर,    झूमने का मन करता है, आसमाँ में चाँद सितारों को,छूने का मन करता है। ख्वाहिशें-ऐ- जिन्दगी,बस इतनी सी है,इस खूबसूरत रंगीन दुनियाँ में,ताउम्र संग जीने को मन करता है।तेरे प्यार ने मुझे सँवारा है,तेरी हर अदा ने मुझे निखारा है,तू पास है मेरे तो यूँ लगे, ये पूराContinue Reading