स्वर्णिम जीवन का देखते हो तुम अद्भुत सपना झूठ धोखा बेईमानी से कभी नहीं होगा अपना। मन के ऊपर कालिखों का आवरण हटाना होगा सत्य की साबुन से मल मल कर मैल छुड़ाना होगा। सत्य के साथ खड़े रहने का अदम्य साहस तुम लाओ झूठ की भीड़ में जाकर मतContinue Reading