हद से गुजरने की है ख़्वाहिश  मुझे माफ़ कर देना तेरे दिल में उतरने की फरमाइश़ मुझे माफ़ कर देना  आज रात तेरे दीदार के ख़ातिर पल भर जो अगर ठहर जाऊँ तो मुझे माफ़ कर देना

अभी समय है,अभी नहीं कुछ बिगड़ा है, देखो चुनाव तुम्हारे पास खड़ा है, देना है मत उसी में चित्त लगा दो, भाजपा पर विश्वास करो, संदेह भगा दो। पूर्ण तुम्हारा मनोभिष्ट क्या कभी न होगा, होगा तो बस अभी, फिर कभी न होगा, देख रहे हो कांग्रेस के किन सपनोंContinue Reading