आपदाएं आती जाती रहेंगी   समस्याएं खूब सताती रहेंगी बुलंद हौंसलों को जिंदा रख  आशाऐं दीप जलाती रहेंगी।

बादलों की ओट में छिपा सूरज बरसते मेघों का स्वागत करते हैं नयनों में सजा कर सुंदर सपने नए अम्बर का आगाज़ करते हैं खेतों में चंचल सुघड़ यौवन उमड़ा पूरवाई में गज़ब उमंग ढेरों मस्ती खिले जीवन का पल-पल देखो अंतर्मन को परिष्कार करते हैं धानी चूनर ओढ़े वसुंधराContinue Reading

सावन का सोमवार महादेव का श्रृंगार बम बम भोलेनाथ कृपा करो बारंबार हाथ में लेकर डमरू शिव ही प्रबंधन गुरु गले में सर्पन माला नमन वंदन मैं करूँ महादेव का तांडव डर गए देव दानव जटा में है गंगा धार पूजन करते मानव शिव है त्रिशूलधारी प्रलय असुर संहारी नटराजContinue Reading

  भीड़ में वो चिल्लाते रहे मन ही मन हम मुस्कराते रहे क्या औक़ात है उसकी बिना कहे ही उसे समझाते रहे

जो ख़ुद ही ज़हर पी जाते हैं  दूसरों पर अमृत छलकाते हैं  वही नीलकंठ महादेव कहलाते हैं।  आसां नहीं ज़हर ख़ुद के लिए रखना फूलों को छोड़ कर कांटों पर चलना कड़वाहट के घूंट गले से यूँ निगलना। ऐसा सिर्फ वो इंसां कर सकता है जो अपना कलेजा बड़ा रखताContinue Reading

मेरे मन को ले जा रही है ये हवाएं आसमाँ की ओर अब इन हवाओं से क्या कहूँ इरादों को पंख लग गए हैं अब कौन बांध पाएगा निगाहों में टिकी है मंज़िल अर्जुन की तरह लक्ष्य साधे बस उस ओर बढ़ चला हूँ नहीं इसे कोई रोक पाएगा इनContinue Reading

चुन चुन के लाए हम सितारें हाथ लगाया अंगारा लगता है भीड़ बढ़ती बना काफ़िला क्यूँ कोई नहीं समझता है खोद कर थक गया फावड़ा पाताल भी सूखा मिलता है जल कर सूराख बना बड़ा सूरज गगन में दहकता है अंतिम रात गहन अमावस चाँद खिलने को तड़पता है थकContinue Reading

भारत के युग पुरुष श्री रबीन्द्रनाथ टैगोर मेरी कलम सृजन कर हुई आत्म विभोर 7 मई को कोलकाता शहर में हुआ जन्म अद्भुत प्रतिभा के धनी साहित्य धर्म कर्म पिता देवेन्द्र नाथ टैगोर माता शारदा देवी तेरह भाई बहन मृणालिनी पत्नी सस्नेही लेखक चित्रकार महान थे वो साहित्यकार देशवासियों कोContinue Reading

प्रेम में क्या हार हो क्या जीत ये परमात्मा का सुमधुर गीत अंतरात्मा को महसूस करना यहीं जगत की है सच्ची रीत जीत से ख़ुशी हो हार से विकल समभाव से जीवन होता सफ़ल हार जीत भुलकर ऊपर उठना कीचड़ में खिल जाता है कमल बस पा लेना ही जीतContinue Reading