जज़्बातों की यह कहानी है अब भी गम में वो रवानी है अश्कों से भीगे मतवाले नैन राज़ ए दिल तुमको बतानी है दिल बैचैनी का तसव्वुर बेतकल्लुफ ये ज़वानी है चाँदनी रात के साये में बेहतरीन गज़ल सुनानी है वो शोखियाँ वो तबस्सुम हसरतों की फिर नादानी है गरमContinue Reading

एकता ,भाइचारा, देश प्रेम लघु कथा संस्मरण के रूप में कई समय से एक सवाल मन में कौंध रहा था कि क्या  चुनावी समय में,स्वाधीनता दिवस, गणतंत्र दिवस पर देश भक्ति के गानों से ही देश प्रेम और देश के प्रति कर्तव्य पूरा हो जाता है? संयोग से लद्दाख कीContinue Reading

खंड खंड काल खंड में भारत की सीमाओं ने गहरी चोट खाई है विभाजित बीज़ सृजित कर पुरातन संस्कृति को दफनायी है आज़ादी के बरसों बाद भी वंदेमातरम् विरोधी ध्वनि सुनाई है तुष्टीकरण की राजनीति से नेताओं ने की बड़ी रुसवाई है भूत भूलकर अब भविष्य काल में जनता नेContinue Reading

जब जब छूटता भरोसा आशंका लेती जन्म हर गतिविधि संदिग्ध उलझ जाते करम अपनी ही आशंकित सोच डर से होता निढाल मन मति भ्रमित दृश्यावली सहम जाता अंतर्मन कभी कुत्ते का रोना कभी कौवा कांव कांव बुरी घटना की आशंका भरता मन का भाव युद्द का समाचार मिलता मृत्यु कीContinue Reading

माता रानी का दरबार सजे बड़ा प्यारा है खुशियों का संसार लगे बड़ा न्यारा है माथे पर चुन्दड़ घणी घणी सोहे बिंदी मुख मंडल आभा अति मोहे आओ बजावे झनकार सोणा सोणा जग सारा माता रानी का दरबार सजे बड़ा प्यारा है…. हाथों में चूड़ा खन-खन खनके शंख त्रिशूल हाथोंContinue Reading

ये दिल ही तो है ज़नाब…. आसमाँ में दूर तलक़ उड़ना चाहता है पंख फैला कर आकाश छूना चाहता है चाँद तारों की सैर करना चाहता है समुद्री तट पर घंटों लेटे रहना चाहता है पुष्प की भीनी-भीनी खुशबू पाना चाहता है हवा के झोंकों में आवारगी करना चाहता हैContinue Reading

स्वर्णिम जीवन का देखते हो तुम अद्भुत सपना झूठ धोखा बेईमानी से कभी नहीं होगा अपना। मन के ऊपर कालिखों का आवरण हटाना होगा सत्य की साबुन से मल मल कर मैल छुड़ाना होगा। सत्य के साथ खड़े रहने का अदम्य साहस तुम लाओ झूठ की भीड़ में जाकर मतContinue Reading

ख़्वाहिशों की तपिश चाँद की चाँदनी अधूरी क्यूँ है तड़प उठती मेरे सीने में दिलों की प्यास अधूरी क्यूँ है बुलबुले उठ रहे है स्वप्न जाल ये रात अधूरी क्यूँ है लबों पे ख़ामोशी घायल मन की बात अधूरी क्यूँ है चूड़ियों की खनक पायल की झंकार अधूरी क्यूँ हैContinue Reading

जिंदगी के धूप में बड़ी तपन है दिल के अंधेरों में बढ़ी घुटन है  वो आँधियों की तरह  उड़ता रहा  मेरे हर साँसों में  शोर करता रहा  उफ्फ ये आँधी के साथ  गम की बरसात भी  आने लगी है  मेरे मन को बड़ा  सताने लगी है माना तेरे जाने काContinue Reading

वैक्सीन नहीं है तो क्या हुआ रोज न जाने कितने मर रहे हैं संवदेना जता हम चल रहे हैं हौसलों से हल निकल रहे हैं भागदौड़ में भी संभल रहे हैं। दवा नहीं पास तो क्या हुआ दुआ से हर लम्हें संवर रहे हैं मास्क से सब दूरी बना रहेContinue Reading