आज तेरहवां दिन घबराए मत! ये लॉकडाउन का तेरहवां दिन है। वैसे तेरहवां दिन बड़ा महत्वपूर्ण होता है। मृत्यु के बाद स्थूल देह सुक्ष्म रुप में रूपांतरित होकर अदृश्य हो जाती है। हिन्दू संस्कृति के अनुसार किसी की भी मृत्यु होती है तो तेरहवीं पर गंगा जल से सभी ओरContinue Reading

शीर्षक -प्रकाश पर्व रोशनी की किरणों ने कल का सवेरा दिखा दिया अधखुली आँखों में नया स्वप्न जगा दिया सुकून के पलों का घरों में आशियाना बना दिया आहिस्ता-आहिस्ता कोहरे का निशाँ मिटा दिया प्यार के जज़्बातों को अंतरात्मा में भरा दिया कोरोना के दहशत से बाहर निकलने का रास्ताContinue Reading

कैसी ये त्रासदी, कैसा ये शहर भटक रहा मज़दूर हो रहा दर बदर घर बनाने वाला ख़ुद ही हुआ बेघर    न वर्तमान न ही भविष्य की रखता ख़बर। 

संगीत साज़ और अंदाज़ सुर और ताल का आगाज़ दूर करे मन के विकारों को मिलाओ मेरी आवाज़ में आवाज़। मधुर संगीत वैश्विक भाषा हम सब में शक्ति बढ़ाता शांति के पथ पर ले जाता इसका श्रवण कर अथाह ऊर्जा पाता। सूरज के अग्न ताप में कोरोना से लड़ने कीContinue Reading

ताश शतरंज कैरम सिक्वेंस लूडो उनो ऑनलाइन हाउजी आप सब क्या खेल रहे हो                 हमें भी तो बता दो जी…   समझदारी ख़त्म, कोरोना की बातेँ छोड़ो, घर बैठकर आओ खेले खेल ऐसा खेल खेले हम जिसमें जीत हो चाहे हार हो मित्रों और रिश्तेदारों के साथ  आनंद जिसकाContinue Reading

कोरोना वायरस ने हमारी संस्कृति को किया पुनर्जीवित… सदियों से प्राकृतिक आपदा ने अपना तांडव खेल दिखाया है,कभी महामारी से तो कभी सुनामी से,कभी अग्नि ताप से तो कभी भू-स्खलन से, ऐसा क्यों होता है? जब प्रकृति के साथ छेड़-छाड़ करते हैं तो परिणाम अवश्य ही हमें भुगतने पड़ते है।Continue Reading