मेरे मन को ले जा रही है ये हवाएं आसमाँ की ओर अब इन हवाओं से क्या कहूँ इरादों को पंख लग गए हैं अब कौन बांध पाएगा निगाहों में टिकी है मंज़िल अर्जुन की तरह लक्ष्य साधे बस उस ओर बढ़ चला हूँ नहीं इसे कोई रोक पाएगा इनContinue Reading

भारत के युग पुरुष श्री रबीन्द्रनाथ टैगोर मेरी कलम सृजन कर हुई आत्म विभोर 7 मई को कोलकाता शहर में हुआ जन्म अद्भुत प्रतिभा के धनी साहित्य धर्म कर्म पिता देवेन्द्र नाथ टैगोर माता शारदा देवी तेरह भाई बहन मृणालिनी पत्नी सस्नेही लेखक चित्रकार महान थे वो साहित्यकार देशवासियों कोContinue Reading

साहित्य समाज का दर्पण जीवन की है आलोचना सत्य शिव सुंदर से तर्पण लोक मंगल की कामना साहित्य हम सबकी प्रेरणा संस्कृति हमारी है पहचान अपनी लेखनी को सहेजना राष्ट्र की है आन बान शान समाज का कर मार्गदर्शन साहित्यकार जलाते मशाल चिराग़ आलोकित प्रदर्शन प्रतिबिंबित करते विशाल काग़ज परContinue Reading

भारत के संविधान पर देश की गरिमा को तार-तार किया अपनी ओछी हरकतों से तिरंगे की शान को बेज़ार किया चंद किसानों के वेश में  इंसानियत को बड़ा लाचार किया भारत माता की छाती पर ये कैसा सबने मिल वार किया लाल किले के प्राचीर से अपने संस्कारों को शर्मसारContinue Reading

हाथ में तिरंगा लेकर झूम रहा जग सारा है मेरा भारत सबसे आगे जय हिंद का नारा है… गणतंत्र दिवस 26 जनवरी राष्ट्रीय पर्व न्यारा है देश भक्ति का ज़ज्बा रख माँ  को नमन हमारा है हाथ में तिरंगा लेकर…. कदम – कदम ताल मिलाकर जाँबाज लहू पुकारा है देशभक्तोंContinue Reading

सियासी भेड़ियों ने गद्दारी दिखाई है,पाकिस्तान के चैनल पर वाह-वाही मचाई है। भारतीय सेना की इज्ज़त दाँव पर लगाई है, लगता हैं रिश्ते में ये आतंकियों के भाई हैं। जनता के इस फटकार के बाद भी, कर रहे ये अपनी रुसवाई है। नमक डाल क्यूँ हमारे जख्मों पर, देशद्रोह कीContinue Reading

  परिवहन विशेषांक – 1 हेलमेट लगाना दुपहिया वाहनों के लिए अत्यन्त आवश्यक है, जानते सभी है परन्तु मानते कितने लोग हैं! हमारे भारत में सारे कानून मानो कठपुतली के खेल के समान है, ऊपर से डोर खीचने से करतब शुरू और जैसे ही डोर ढीली छोड़ दी जाए, सभीContinue Reading

प्रेम और भक्ति रस से सरोबार श्री लंका की यात्रा। रामायण हमारे भारत का संस्कृत में लिखा पौराणिक अनुपम महाकाव्य है,जिसके रचयिता आदि महाकवि श्री वाल्मीकि जी हैं।इस महाकाव्य के माध्यम से रघुवंशी राजा भगवान राम जी के गौरव गाथा का विवरण है।रामायण के इस महाकाव्य में भगवान श्री रामContinue Reading

जो देश की सेवा करते हैं, उनकी सेवा हम कैसे कर सकते हैं? सर्वप्रथम हमारे देश के उन जॉबाज़ सैनिकों को शत्-शत् नमन हैं, जिन्होंने देश सेवा के लिए अपने प्राणों का आहूति दे दी। देश की सेवा भारतीय इतिहास का गौरव रहा है। यहाँ हर युग में अनगिनत वीरContinue Reading