मैं उससे प्यार करती थी वो मुझसे प्यार करता था कहने को तो इकरार था वही मेरा संसार था माँ बाप ने मेरा रिश्ता किसी और से तय कर दिया बहती नदी की धार का मानो रुख ही बदल दिया अनकही कई बातें रह गई आहिस्ता-आहिस्ता जिंदगी ही बदल गईContinue Reading