परिवहन विशेषांक – 2 सीट बेल्ट की क्यों है जरूरत? कार में लगा सीट बेल्ट क्या हमारा सुरक्षा कवच है? ट्रेफिक नियमों को पालन करना क्या हमारी मजबूरी है? ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब हम ढूँढ़ते हैं। दीपावली पर एक गृहणी के नाते अपने घर के कई घरेलू कार्योंContinue Reading

  परिवहन विशेषांक – 1 हेलमेट लगाना दुपहिया वाहनों के लिए अत्यन्त आवश्यक है, जानते सभी है परन्तु मानते कितने लोग हैं! हमारे भारत में सारे कानून मानो कठपुतली के खेल के समान है, ऊपर से डोर खीचने से करतब शुरू और जैसे ही डोर ढीली छोड़ दी जाए, सभीContinue Reading

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण को रोकने के लिए ठोस कदम उठाए हैं। दीपावली पर सिर्फ दो घंटे तक ही आतिशबाजी की जा सकती है साथ ही क्रिसमस एवं नूतन वर्ष के आगमन पर एक घंटे के लिए ही आतिशबाजी की इजाजत दी गई है।ऑनलाइन पटाखों की खरीदारीContinue Reading

प्रेम और भक्ति रस से सरोबार श्री लंका की यात्रा। रामायण हमारे भारत का संस्कृत में लिखा पौराणिक अनुपम महाकाव्य है,जिसके रचयिता आदि महाकवि श्री वाल्मीकि जी हैं।इस महाकाव्य के माध्यम से रघुवंशी राजा भगवान राम जी के गौरव गाथा का विवरण है।रामायण के इस महाकाव्य में भगवान श्री रामContinue Reading

पावन प्रीत की धार, राखी का त्यौहार!!! माँ के गर्भ से बनता है ये रिश्ता, प्रेम की डोर से सजता है ये रिश्ता, अद्भुत, अविरल, पावन प्रीत की धार, राखी है भाई-बहन के ऊर्जा का संचार। बहन भाई के लिये मान होती है, तो भाई बहन का अभिमान होता है,Continue Reading

पन्द्रह अगस्त का दिन कहता है, आज़ादी अभी अधूरी है, इस सोच – समझ वाले शख्सियत की, महायात्रा अब तो पूरी है। तू पथिक है सत्य का, तू युग पुरुष है हिन्दुत्व का, नव – जीवन का आह्वान लिए, प्रभु के निमंत्रण को स्वीकार किए, साँसे जिनकी थम गई, घड़ीContinue Reading

जो देश की सेवा करते हैं, उनकी सेवा हम कैसे कर सकते हैं? सर्वप्रथम हमारे देश के उन जॉबाज़ सैनिकों को शत्-शत् नमन हैं, जिन्होंने देश सेवा के लिए अपने प्राणों का आहूति दे दी। देश की सेवा भारतीय इतिहास का गौरव रहा है। यहाँ हर युग में अनगिनत वीरContinue Reading

वो अधूरी शाम, कई अनकही बातें, खामोश लम्हें,तेरा पहला दीदार, इज़हार ए ख्वाब अभी काफ़ी है, तुम्हारा इंतज़ार अभी बाकी है।  एक लम्बी सी काली कार से, उतरते दो लम्बे पाँव, गुलाबी जैकेट से खिला तुम्हारा तन, भीड़ को देख कर, मुस्कुराती तुम्हारी निगाहें, स्वच्छ भारत के लिये, आह्वान करतीContinue Reading

पल भर में ये क्या हो गया, वो मैं गयी वो मन गया – बेहद खूबसूरत पंक्ति इस गीत की, जब भी सुनो मन कहीं खो जाता है। मन के अंतर्मन में संजोए अनगिनत सपने जहाँ सिर्फ प्रेम ही प्रेम है। उम्र के ऐसे दौर पर,जिसमें मन के कोने मेंContinue Reading

राजाओं की नीति है राजनीति! ऐसी नीतियाँ जिनसे राज्य का प्रशासन किया जाता है। राज – सत्ता में स्थान प्राप्त करने की जोड़ – तोड़ की कला ही राजनीति का स्वरूप है। राजनीति समाज के संगठित जीवन का सर्वाधिक महत्वपूर्ण क्रियान्वयन है, जिसका सीधा संबंध राज्य और सरकार से रहताContinue Reading