भारत का युग प्रवर्तक युवा सोच उर्जावान स्वामी विवेकानंद ने फैलाया मानवता ज्ञान आध्यात्म धर्म कर्म विवेक का आह्वान लिए विश्व में बढ़ाई अपने भारत माता की शान। उज्जवल मुख मंडल आभा चौड़ा गौरव ललाट आदर्श स्वभाव ग़ज़ब आकर्षण गेरू वस्त्र सम्राट अमेरीका में दिया भाषण मधुर आवाज़ में दमContinue Reading

अमावस्या की रात में  हर देहरी दीप जगमगाता  रोशनाई से धरती का  सुन्दर स्वरुप  निखर जाता भारतीय संस्कृति का  दीपावली अद्भुत त्यौहार हर आँगन चमकता  दीप मिटाता अंधकार  जगमगाती सारी धरती  खिलखिलाता संपूर्ण संसार निराशा के तिमिर छँटते आशा का होता संचार  धन धान्य की होती वृष्टि  मिलता सबको रोज़गार Continue Reading

हमारे भगवन् श्री गणेश प्रथम सुमिरन विशेष करते इनकी आराधना मन में बढ़ती सद्भावना विद्या बुद्धि बल दायक विघ्न नाशक मंगलकारक रिद्धि-सिद्धि शुभ कारज पूर्ण होते सकल मनोरथ खीर पूरी अनेकों पकवान भोग लगते मोदक मिष्ठान मूषक की इनकी सवारी दिखती बड़ी प्यारी न्यारी माता पिता की परिक्रमा जो करेContinue Reading

देश की सरहद पर खड़े  सेनानी कहलाते शूरवीर देश को स्वच्छ कर अपना दायित्व निभाते कर्मवीर शूरवीर बांध सर पर कफ़न देश की रक्षा में मर मिटता है कर्मवीर दिन रात जुट कर देश की सेवा में जगता है मातृभूमि की आज़ादी में दिया जिन्होंने बलिदान हमें बढ़ाना है उनContinue Reading

सृष्टि के श्री हरि विष्णु तारणहार द्वापर युग कृष्ण रूप लियो अवतार जन्माष्टमी का अद्भुत अपूर्व त्यौहार आनंद उमंग उल्लास हर घर हर द्वार। देवकी माता ने जन्म दियो यशोदा माता बनी पालनहार लाड प्यार में बितायो बचपन नटखट बाल रूप मोहक अपार। कभी माखन चुरा कर दिल लुभायो कभीContinue Reading

हाथों में लगती मेहंदी बालों में सजता गज़रा माथे पर सोहती बिंदी खन खन करता कंगना। उफ्फ ये सोलह श्रृंगार औरत की खुबसूरती अपार दिल में होता खूब प्यार हरियाली तीज़ का त्यौहार। तीज़ के पूर्व होता सिंजा़रा यह दिन होता बड़ा प्यारा रिश्तों में घुलती मिठास महकता घर आँगणContinue Reading

बसंत ऋतुओं का राजा, कहलाता ऋतुराज,  फ़िजा में फूलों की खुशबू,मादकता का अंदाज। कल-कल करती नदियाँ,प्रकृति की अद्भुत छटा, चाँद की चाँदनी ठंडी हवाएँ, रखती मन तरोताजा। नई स्फूर्ति, नया मंजर, नया सबका उल्लास, तितली भँवर कर गुंजन, नई खुशियों का आभास।  पीली हल्दी, पीले हाथ, पीले पहनते परिधान, विवाहContinue Reading

श्याम डगर पर चल कर देखो खुशियों की भरमार है। मुड़ कर नहीं देखना पड़ता जो चलता एक बार है।। यशोदा तेरा ये नंदलाला वारी जावे इस पर बृज की हर बाला। मटकी फोड़ दूध दही माखन खावे करे गोपियों संग रास लीला।। बांके बिहारी रणछोड़ छलिया प्रेमी रसिक बंशीधरContinue Reading

राखी और आज़ादी का पर्व बड़ा ख़ास है समूचे देश में छाई है ख़ुशहाली आया सबको विश्वास है। तीन तलाक से बहनें थी त्रस्त आज़ादी दिलाई भारत के भाइयों ने मुसीबतों को किया पस्त नहीं आसां राह थी पर दिल में भाई के चाह थी दूँगा बहनों को उपहार राखीContinue Reading

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण को रोकने के लिए ठोस कदम उठाए हैं। दीपावली पर सिर्फ दो घंटे तक ही आतिशबाजी की जा सकती है साथ ही क्रिसमस एवं नूतन वर्ष के आगमन पर एक घंटे के लिए ही आतिशबाजी की इजाजत दी गई है।ऑनलाइन पटाखों की खरीदारीContinue Reading