खामोश गहरी आँखे, टूटता इंसान दिल में अथाह पीड़ा, बिखरती दर्द की पहचान। होठों पर लरज़ता रुदन, बेबस जिंदगी प्रेम की आस में, हृदय में घूटती सिसकी। फिर भी कांपते हाथों से देते हैं हमें आशीर्वाद बुजुर्गों के स्पर्श से खुलते उन्नति के मार्ग। ये हमें जानना होगा, मानना होगाContinue Reading

कोरोना ने एक दिन मुझे इतना डरा दिया कि रात सोते हुए को मुझे जगा दिया क्या मृत्यु इतनी नजदीक खड़ी है जैसे बाजूवाली की खिड़की खुली है। डर से क्या ऊपर निकल पाऊँगी सामान्य जीवन क्या वापस जी पाऊँगी डर कि लहर दौड़ने लगी थी मन में मृत्यु केContinue Reading

गिर कर थपेड़े वक़्त के खाती रही हूँ मैं फिर से चलने का साहस बढ़ाती रही हूँ मैं मंज़िल की ओर निरंतर जाती रही हूँ मैं हर पल हर दिन नई ऊर्जा लाती रही हूँ मैं। आत्मबल से पूरित हो जाए मेरा पूरा जीवन उत्साह उमंग आनंदित उल्लासपूर्ण हो मेराContinue Reading

दुख से ऊपर उठकर जीना मानव जीवन की पहचान है माना चिर सुख की चाहत हर दिल का अरमान है। पल पल समय बदलता अंधेरे के बाद ही तो उजाले का विधान है। दुख से ऊपर उठकर जीना मानव जीवन की पहचान है।  रात न आती तो क्या हम देखContinue Reading

दोस्त वही जो… आपके दिल के एक कोने में अपना permanent address बना जाए आपके एक फोन पर भागा भागा आ जाए एक कॉफी या आइसक्रीम के नाम पर घंटों समय बिता जाए चाय की थड़ी पर चुस्कियों के साथ मज़े ले जाए बाप के गुस्से वाले फोन से अपनेContinue Reading

विश्व में अँग्रेजी के बाद सबसे ज्यादा लोकप्रिय बोलचाल की भाषा कौन सी है? जी हाँ, Statistics के हिसाब से हिंदी और कहीं कहीं हिन्दुस्तानी (हिन्दी + उर्दू का सम्मिश्रण ) का जवाब सही है, उसके बाद स्पेनिश जानी जाती है, जिसे अमेरीका में सबसे ज्यादा बोली जाती है, स्पेनिशContinue Reading

मेरी माँ मेरा वरदान है अनवरत बिना थके बिना रुके निरंतर ख्याल रखती मेरा टिक-टिक चलती घड़ी के समान है। मेरी माँ परिवार का अभिमान है अन्नपूर्णा का स्वरूप लिए अपने हाथों में जादू लिए बनाती स्वादिष्ट पकवान है। कभी मित्र तो कभी गुरु बनकर हर राह को आसान बनाती Continue Reading

मैं उससे प्यार करती थी वो मुझसे प्यार करता था कहने को तो इकरार था वही मेरा संसार था माँ बाप ने मेरा रिश्ता किसी और से तय कर दिया बहती नदी की धार का मानो रुख ही बदल दिया अनकही कई बातें रह गई आहिस्ता-आहिस्ता जिंदगी ही बदल गईContinue Reading

सबमें अलग-अलग विशेषता है, सबकी अपेक्षाओं के अनुरूप होना सबके लिए बहुत मुश्किल है, सबको साथ लेकर चलने में अधिकतर हम झल्ला जाते हैं क्योंकि सबकी आदतें अलग है, तरीका अलग है, पर हमें राजनेताओं से सीखना चाहिए, कितने लोगों को उन्हें संभालना होता है, सबको साथ लेकर चलना होताContinue Reading

A for Apple पर इससे भी कुछ ऊपर…. #Affiliation #Attention #Appreciation #Acknowledge 1.Affiliation – लोगों से जुड़ना यानि टीम वर्क – नव ग्रह से सौर मंडल, सूरज, चाँद, सितारे जिनसे बनता है पेड़ पौधों का भोजन और जीवन, उनसे हमें मिलता है आक्सीज़न, यहीं से साँसों का लेन देन, कोईContinue Reading