आशाऐं

आपदाएं आती जाती रहेंगी 
 समस्याएं खूब सताती रहेंगी
बुलंद हौंसलों को जिंदा रख 
आशाऐं दीप जलाती रहेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *