साहित्य समाज का दर्पण जीवन की है आलोचना सत्य शिव सुंदर से तर्पण लोक मंगल की कामना साहित्य हम सबकी प्रेरणा संस्कृति हमारी है पहचान अपनी लेखनी को सहेजना राष्ट्र की है आन बान शान समाज का कर मार्गदर्शन साहित्यकार जलाते मशाल चिराग़ आलोकित प्रदर्शन प्रतिबिंबित करते विशाल काग़ज परContinue Reading

ठिठुर ठिठुर कर रात जागती                भोर की आहट होने तक  बोझ गुलामी का कंधों पर               तुम ढ़ोते रहोगे कब तक।

मन में उत्साह लिए उमंग संग जो जीवन में आगे बढ़ता है अवसाद दुखों से ऊपर उठकर जीवन में फतह करता है आत्मसंघर्षों से सीख कर मुसीबतों से हर पल लड़ता है अंधेरे को चीर कर रोशनी जलाने की हिम्मत रखता है करतब खेल तमाशा जादू दिखाने का प्रदर्शन करताContinue Reading

गांव की माटी में सौंधी खुशबू महकती हर साँसों में खेतों में मधुर राग की झनकार बैलों के घुँघरूओं में हल चलाकर आनंद बिखरता उमंग उठती फसलों में लहलहाते वृक्ष झूमती शाखाएँ पुरवाई के झोंकों में कोपलों से खिलता परिवेश गांव का घरौंदे चिड़ियाओं के कोटरों में निश्चल स्वभाव सच्चेContinue Reading

नन्हें हाथों में होता मखमली स्पर्श का प्यारा एहसास अनुभूति होती अद्भुत गोद में बच्चे का माँ पर विश्वास बच्चों की किलकारियों से गूंजता घर का हर कोना आँगन मानों कोई फुलवारी महकती बगिया में जीवन का प्रांगण पति पत्नी के प्रेम की नींव से सृजन हो जाता वट वृक्षContinue Reading

ख़ुशी की झलक कभी अश्कों की छलक प्रेम की ललक कभी अपनेपन की चहक कलम से निकले हर नायाब भावों के रंग ज्ञान के दीप प्रज्वलित नयी चेतना के संग एक ख़्वाब तलवार से पैनी क़लम की धार लेखनी मृत्यु के बाद भी जीवंत करें संसार कलम में सदा रहे Continue Reading

मन में बल्लियां खिल रही है निमंत्रण घर द्वार आया है सुनो सुनो सब दुनियाँ वालों आज दावत पर बुलाया है कुछ पुरानी बातें याद आई वो समय अंखियों में समाया है परिवार में सात्विक प्रेम मित्र रिश्तेदारों में स्नेह का साया है। जब साल का मिलता एक निमंत्रण मनContinue Reading

सीता मैया की संसद में हुई जय जयकार न आंख मारी न गले लगी कैसी ये सरकार बजट पेश किया विपक्ष में मचा हाहाकार अच्छा सब कुछ फिर भी करना है प्रतिकार विपक्ष में होने का यही सीख ये ही संस्कार सत्ता पक्ष के लिए यह हमेशा होता शानदार चुपचापContinue Reading

भारत के संविधान पर देश की गरिमा को तार-तार किया अपनी ओछी हरकतों से तिरंगे की शान को बेज़ार किया चंद किसानों के वेश में  इंसानियत को बड़ा लाचार किया भारत माता की छाती पर ये कैसा सबने मिल वार किया लाल किले के प्राचीर से अपने संस्कारों को शर्मसारContinue Reading

हाथ में तिरंगा लेकर झूम रहा जग सारा है मेरा भारत सबसे आगे जय हिंद का नारा है… गणतंत्र दिवस 26 जनवरी राष्ट्रीय पर्व न्यारा है देश भक्ति का ज़ज्बा रख माँ  को नमन हमारा है हाथ में तिरंगा लेकर…. कदम – कदम ताल मिलाकर जाँबाज लहू पुकारा है देशभक्तोंContinue Reading